Short Story of Sawji Bhai Dholakiya

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

किसी भी कंपनी को अगर बड़ा बनना है या फिर grow करना हो तो सबसे पहले उसे अपने employees की facilities के बारे में सोचना चाहिए| यदि employee खुश रहेगा तो पूरे दिल से मेहनत करेगा और ज्यादा से ज्यादा output देगा जो की एक कंपनी के लिए फायदेमंद होगा| बहुत सी कंपनी है जो अपने employees के बारे में सोचती है और बहुत तरह की facilities प्रदान करती है| इसी का एक जीते जागते उदाहरण है हरे HARE KRISHNA EXPORTS Pvt. Ltd. के मालिक सावजी भाई ढोलकिया|

जीरो से हीरो बनने का एक बेहतरीन उदाहरण है सावजी भाई ढोलकिया| सावजी भाई ढोलकिया का बचपन गुजरात के एक छोटे से गांव दुधाला में बीता था| बचपन में ही उन्होंने एक सपना देखा था और उनकी आर्थिक स्तिथि अच्छी न होने के बावजूद वो अपने सपने को पूरा करने के लिए वो अपने गांव से सूरत के लिए निकल गए थे| सूरत में लगभग 6 साल तक उन्होंने हीरों (Diamond) के घिसने का काम किया| इस काम के उनको 106/- प्रति माह मिलते थे. 1977 में उन्होंने अपने तीन भाइयों के साथ मिलके एक फैक्ट्री सुरु की जिसमे हीरे (Diamond) की कटिंग (Cutting), पॉलिशिंग (Polishing) और हैंडवर्क (Handwork) का काम किया जाता था| उनकी फैक्ट्री में उनको, उनके भाइयों और वर्कर्स को मिला के कुल 7 लोग थे, और उन्ही 7 लोगो के साथ मिलकर उन्होंने अपने काम को आगे बढ़ाया| 1992 में HARE KRISHNA EXPORTS Pvt. Ltd. कंपनी की स्थापना हुई| आज की तारिक में उनकी कंपनी का टर्नओवर 6000 करोड़ है और उनकी कंपनी ने 9000 लोगों को रोजगार दे रखा है| उनकी कंपनी को पूरी दुनिया में हीरे (Diamond) की बेस्ट क्वालिटी (Quality) के बारे में जाना जाता है| उनकी कंपनी दुनिया के 50 देशों में निर्यात (Export) करती है|

सावजी भाई पूजा पाठ और धार्मिक गतिविधियों में बहुत विश्वास रखते हैं| अपने कर्मचारियों को बहुत सम्मान देते हैं और उन्हें अपना फॅमिली मेंबर समझते हैं| हर साल नवरात्री में अपने कर्मचारियों के साथ गर्बा करते हैं| दिवाली में बोनस के तौर पर अपने कर्मचारियों को महंगे – महंगे तोफे देते हैं| हाल ही में उन्होंने बोनस के रूप में अपने 200 कर्मचारियों को जिनके पास घर नहीं था उन्हें फ्लैट (Flat) दिया, 491 कर्मचारियों को कारें दी, तीन खास कर्मचारियों को बोनस में मर्सिडीज बेंज दी, 500 कर्मचारियों को कार दी 35 लाख का सोना दिया| 1000 कर्मचारियों के पेरेंट्स को चारधाम की यात्रा करवाई| उन्होंने अपने कर्मचारियों के लिए एक बड़ा मैदान (Playground) भी बनवाया है| सावजी भाई ढोलकिया दरिया दिली का एक जीता जागता उदाहरण है| उनका कहना है की बिना कर्मचारियों के हम कुछ नहीं कर सकते हमारे कर्मचारी रात दिन मेहनत करके हमारी कंपनी को प्रगति की तरफ बढ़ाते हैं इसीलिए हमारे प्रॉफिट में उनका बहुत बड़ा योगदान और भागीदारी है| मैं बस उनका हिस्सा उन्हें दे देता हूँ|

उनका मानना है की अगर आपकी नियत ठीक होगी तो आपके काम में तरक्की होगी| इसीलिए कोई भी काम करो, सही नियत के साथ करो| तभी सफल हो पाओगे|


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Specify Facebook App ID and Secret in the Super Socializer > Social Login section in the admin panel for Facebook Login to work

Specify Google Client ID and Secret in the Super Socializer > Social Login section in the admin panel for Google Login to work

Your email address will not be published.